• http://www.facebook.com/AshokGehlot.Rajasthan
  • http://blog.ashokgehlot.in
  • http://www.youtube.com/user/GehlotAshok
  • https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ashokgehlot.app#?t=W251bGwsMSwyLDIxMiwiY29tLmFzaG9rZ2VobG90LmFwcCJd

राष्ट्रीय आजीविका मिशन और मुख्यमंत्री ग्रामीण बीपीएल आवास योजना का भव्य शुभारंभ


श्रीमती सोनिया गांधी ने बांसवाड़ा से किया दो खास योजनाओं का आगाज

जयपुर, 3 जून। यूपीए चेयरपर्सन श्रीमती सोनिया गांधी ने शुक्रवार को राजस्थान के ठेठ आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र वागड़ की धरती से राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन का शुभारम्भ किया। श्रीमती गांधी ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन डाक्यूमेंन्ट का लोकार्पण किया और कहा कि इस महती योजना से ग्रामीण क्षेत्र में स्वावलम्बन के साथ ही युवाओं व महिलाओं के सशक्तीकरण का मार्ग प्रशस्त होगा।

श्रीमती गांधी ने शुक्रवार को बांसवाडा के कॉलेज प्रांगण में आयोजित विशाल जनसभा में कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कार्यक्रम की बदौलत देश के गरीब व कमजोर वर्ग के परिवारों की लाखों महिलाओं की अपनी व अपने परिवार की माली हालत सुधारने व उनके जीवन स्तर को ऊँचा उठाने में मददगार बनेगा।

इस योजना के तहत देश भर में 7 करोड़़ गरीब परिवारों का स्वयं सहायता समूह के रूप में गठन किया जायेगा तथा 12वीं पंचवर्षीय योजना के अंत तक देश के प्रत्येक जिले की प्रत्येक पंचायत समिति को इस योजना में शामिल किया जाएगा।

श्रीमती सोनिया गांधी ने इसी के साथ राजस्थान की एक और महत्वपूर्ण योजना मुख्य मंत्री ग्रामीण बी.पी.एल. आवास योजना का भी शुभारम्भ किया। इस योजना में इन्दिरा आवास सहित दस लाख ग्रामीण बी.पी.एल. परिवारों को तीन वर्ष में पक्के आवास बनाकर उपलब्ध कराये जायेंगे। श्रीमती सोनिया गांधी ने इस योजना के तहत हुडको द्वारा पहले चरण में जारी 1400 करोड़ रुपए का ऋण स्वीकृति पत्र मुख्य मंत्री श्री अशोक गहलोत को प्रदान किया ।

वागड़ की महिमा को नमन किया
समारोह में श्रीमती सोनिया गांधी ने मानगढ़ क्रांति के लोकनायक गोविन्द गुरु का स्मरण किया और कहा कि ऐतिहासिक धरती बांसवाड़ा से राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन का शुभारम्भ होना हम सबके लिए खुशी की बात है। वागड़वासी अपनी संस्कृति व आदिवासी विरासत की वजह से मशहूर हैं। स्वर्गीय श्री हरिदेव जोशी, भीखा भाई व भोगीलाल पण्ड्या का इस क्षेत्र के विकास में जो योगदान रहा उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि आदिवासी विकास के साथ साथ उनकी परम्पराओं की रक्षा के लिए हमें हर संभव कदम उठाने चाहिए। इसी उद्देश्य से आज रतलाम-डूंगरपुर-बांसवाड़ा रेल मार्ग का भी शिलान्यास किया गया जिससे इस आदिवासी क्षेत्र के विकास को गति मिलेगी।

उन्हांेने कहा कि विकास का फायदा समाज के हर वर्ग तक पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा हरसंभव प्रयास किये जाते रहे हैं। स्वर्गीय राजीव गांधी को भी हर वक्त यही चिंता रहती थी कि देश कैसे आगे बढे़। देश की एकता, अखण्डता व मजबूती के लिए ही स्व. इन्दिरा गांधी व राजीव गांधी ने अपने प्राणों की आहूति दी।

श्रीमती सोनिया गांधी ने वागड़ की धरती को पावन एवं प्रेरणादायी बताते हुए कहा कि आदिवासी इलाका वागड़ भी ऐसे ही शहीदों की धरती रही है। स्व. पूंजा जी भील एवं गोविन्द गुरु का पूरा आशीर्वाद हमारे साथ है और इस क्षेत्र की बहबूदी के लिए प्रयास निरन्तर जारी रहेंगे। उन्होंने उपने उद्बोधन में 4 जून को महाराणा प्रताप की जयन्ती के उपलक्ष पर सभी को बधाई दी।

उन्हांेने कहा कि स्वर्गीय राजीव गांधी के प्रयासों का ही प्रतिफल है कि आज देश में मजबूत पंचायतीराज स्थापित है और 10 लाख से अधिक चुनी हुई महिलाएं प्रतिनिधि हैं। महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में किये गये प्रयासों के तहत स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं का बेैंकों से लिंकेज किया हुआ है, जहां से उनकी आर्थिक जरूरतें पूरी हो रही हैं। आज देश में 50 लाख स्वयं सहायता समूह हैं जिनकी वजह से महिलाओं में आत्मविश्वास की वृद्धि हुई है। श्रीमती सोनिया गांधी ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए सरकार ने एक नई आर्थिक संस्था बनाने का निर्णय किया है। इस के तहत वित्त मंत्रालय द्वारा स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को लगभग 500 करोड़़ रुपए ऋण स्वरूप दिये जायेंगे।

उन्होंने कहा कि कई प्रदेशों में स्वयं सहायता समूहों की महिलाएं अपनी आर्थिक उन्नति के प्रयासों के साथ-साथ सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में सहयोग कर रही हैं और सरकारी कार्यक्रमों का सामाजिक अंकेक्षण भी करवा रही हैं। सामाजिक अंकेक्षण से जहां एक ओर प्रशासन की जवाबदारी तय होती है वहीं समाज की भागीदारी भी सुनिश्चित होती है। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम व योजनाएं तो बनती जाती हैं, लेकिन असली चुनौती तो उनके ठीक से लागू करने की व प्रभावी क्रियान्वयन की है। अतः योजनाओं के सफल रूपायन हेतु महिलाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा।

श्रीमती गांधी ने कहा कि आदिवासी हमारे देश की बुनियाद हैं। उनके हकों की रक्षा के लिए ही जहां आदिवासी रह रहे हैं, उन्हंे उनकी जमीन का मालिकाना हक देने का कानून बनाया है। उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा के कानून को सरकार अंतिम रूप दे रही है। यह कानून समाज में कुपोषण को समाप्त करेगा। श्रीमती गांधी ने कहा कि हमने हाल ही हरियाणा से एक योजना शुरू की है जिससे गर्भवती महिलाओं व जच्चा-बच्चा के स्वास्थ्य के लिए निःशुल्क चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने बताया कि सरकार ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व उनके सहायकों का वेतन बढ़ाकर दो गुना कर दिया है।

मुख्यमंत्री बीपीएल आवासीय योजना गरीबों के लिए वरदान
यूपीए अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने राजस्थान सरकार द्वारा मुख्य मंत्री बी.पी.एल. आवास योजना लागू करने पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि इससे गरीबी की रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले 10 लाख गरीब परिवारों की आवासीय समस्या का समाधान संभव हो सकेगा।

समारोह में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि श्रीमती सोनिया गांधी ने आज वागड़ की धरती से तीन महत्वपूर्ण सोगातें दी हैं जो प्रदेश की तकदीर और तस्वीर को सँवारेंगी। उन्होंने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की राजस्थान के आदिवासी अंचल से शुरूआत के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया और कहा कि श्रीमती गांधी ने आज ही रतलाम-डूंगरपुर-बांसवाड़ा रेल मार्ग का भी शिलान्यास इसी धरती पर किया है। इस रेल मार्ग के लिए राज्य सरकार भी 1200 करोड़ रुपए उपलब्ध करायेगी। इस योजना के शिलान्यास से समूचे वागड क्षेत्र में खुशी की लहर व्याप्त है। इसी के साथ आज से ही प्रदेश में मुख्यमंत्री बी.पी.एल. आवासीय योजना का भी शुभारम्भ श्रीमती सोनिया गांधी के हाथों हुआ है। इस योजना में हुडको द्वारा 3400 करोड़ रुपए उपलब्ध कराये जाएंगे और इन्दिरा आवास योजना के आवास गृहों को शामिल करते हुए कुल 10 लाख आवास गृह आगामी तीन साल में बनाये जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने श्रीमती सोनिया गांधी को भरोसा दिलाया कि आदिवासी क्षेत्र के विकास में राज्य सरकार द्वारा कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजना के तहत गत दो वर्षों में राज्य के गांवांें में करीब 9 हजार करोड़़ रुपए लोगों के हाथों में पहुंचे हैं। आज बांसवाड़ा जिले में सवा दो लाख एवं डूंगरपुर जिले में सवा लाख लोग नरेगा कार्यों पर लगे हुए हैं।

मुख्य मंत्री ने कहा कि आज एक के बाद एक नवीन विकास योजनाएं आ रही हैं जिससे स्व. राजीव गांधी के सपनों का भारत का निर्माण हो रहा है। सर्व शिक्षा अभियान, प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना, राजीव गांधी विद्युतीकरण, मध्याह्न भोजन एवं महानरेगा जैसी योजनाओं से देश के ग्रामीण भारत की तस्वीर बदल रही है।

केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री विलासराव देशमुख में कहा कि श्रीमती सोनिया गांधी कीे प्रेरणा से देश में महानरेगा जैसी योजना शुरू की गई जिसके तहत लाखों लोगों को रोजगार मिल रहा है। हमने ग्रामीण विकास को गति देने का पूरा प्रयास किया है। पेयजल एवं सड़क सुविधाओं का विस्तार करने के साथ ही इन्दिरा गांधी पेंशन योजना लागू की गई है। महिलाओं के आर्थिक उत्थान व कल्याण के लिये चलाई जा रही इन योजनाओं से वे स्वावलम्बी बनी हैं और उनमें एक नया विश्वास जागा है।

केन्द्रीय भूतल परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री डॉ. सी.पी. जोशी ने कहा कि माही पर बांध बनने से क्षेत्र में खुशहाली आई है। रतलाम-डूंगरपुर-बांसवाड़ा रेल मार्ग शुरू हो जाने पर यहां के विकास को नये आयाम मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने इस क्षेत्र में तीन नये बिजलीघर बनाने का भी फैसला किया है। डॉ. जोशी ने आदिवासी भाई-बहनों को पढ़-लिखकर होशियार बनने और अपने हक-हकूक के लिए जागरूक रहने का आव्ह्वान किया।

केन्द्रीय पंचायती राज मन्त्रालय के सचिव श्री बी.के. सिन्हा ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि इस योजना के माध्यम से गरीबी उन्मूलन में सफलता मिलेगी।

प्रारम्भ में श्रीमती सोनिया गांधी के सभामंच पर पहुंचने पर आन्ध्र प्रदेश के स्वयं सहायता समूह की बहन लक्ष्मी शिवकुमारी ने उनका स्वागत किया। मंच पर केन्द्रीय आवासन, शहरी गरीबी उन्मूलन एवं संस्कृति मंत्री कुमारी शैलजा, केन्द्रीय संचार राज्यमंत्री श्री सचिन पायलट, केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री श्री नमोनारायण मीणा, केन्द्रीय जनजाति कल्याण राज्यमंत्री श्री महादेवसिंह खण्डेला, प्रदेश के जनजाति विकास मंत्री श्री महेन्द्रजीतंिसंह मालविया, सांसद श्री ताराचंद भगोरा भी आसीन थे। कार्यक्रम का संचालन श्री प्रभात गोस्वामी ने किया।

मुख्यमंत्री ग्रामीण बी.पी.एल आवासीय योजना
श्रीमती सोनिया गांधी ने शुक्रवार को बांसवाडा के कॉलेज मेंदान में आयोजित समारोह के दौरान ’’मुख्यमंत्री ग्रामीण बी.पी.एल. आवास योजना’’ का शुभारम्भ किया। श्रीमती गांधी ने इस योजना के तहत चयनित बांसवाडा जिले के झरनिया ग्राम की पांच महिला लाभार्थियों श्रीमती रकमा, श्रीमती वाला, श्रीमती मणी, श्रीमती भूली एवं श्रीमती कान्ता को प्रथम किश्त के रूप में 25-25 हजार रुपए की राशि के चैक भी प्रदान किये।

चौदह सौ करोड़़ का ऋण स्वीकृति पत्र पेश
समारोह में श्रीमती सोनिया गांधी की मौजूदगी में केन्द्रीय आवासन, शहरी गरीबी उन्मूलन एवं संस्कृति मंत्री कुमारी शैलजा ने मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत को हुडको द्वारा 3400 करोड़ रुपए के ऋण की प्रथम किश्त के रूप में 1400 करोड़ रुपए का ऋण स्वीकृति पत्र भेंट किया।

मुख्यमंत्री ग्रामीण बी.पी.एल आवास योजना के तहत इन्दिरा आवास सहित कुल 10 लाख ग्रामीण बी.पी.एल परिवारों को 3 वर्ष में पक्के आवास बना कर उपलब्ध कराये जाएंगे साथ ही उन्हंे 50-50 हजार रुपए भी दिये जाएंगे। तीन हजार 400 करोड़ रुपए की इस योजना के तहत हुडको द्वारा इस वर्ष 1400 करोड़ रुपए की स्वीकृति जारी की गई है और चालू वित्तीय वर्ष में 2 लाख 80 हजार परिवारों को आवास उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

इन्दिरा आवास योजना की तर्ज पर योजना के अन्तर्गत प्रथम वर्ष में 41 हजार 280 अल्प संख्यक परिवारों को भी लाभान्वित किया जावेगा। योजना के तहत 60 प्रतिशत अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के परिवारों को तथा 15 प्रतिशत अल्पसंख्यकों के लिए लक्ष्य राज्य स्तर पर निर्धारित किया गया है। प्रत्येक वर्ग के कुल लक्ष्यों में से 3 प्रतिशत लक्ष्य विकलांगों के लिए रखा गया है।

भावभीना स्वागत
इससे पूर्व यूपीए अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी का बांसवाड़ा की धरती पर भव्य स्वागत हुआ और मंगल ध्वनियों के साथ उनकी शानदार अगवानी की गई। श्रीमती गांधी हैलीकॉप्टर वीटी-एमआरआई से दोपहर 11 बजे बांसवाड़ा कॉलेज मेंदान पर सभा स्थल के समीप बने हेलीपेड़ पर पहंुची। उनके साथ मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत तथा केन्द्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री श्री विलासराव देशमुख भी थे। इससे पांच मिनट पूर्व एक अन्य हेलीकॉप्टर से केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्री डॉ. सीपी जोशी, बांसवाड़ा-डूंगरपुर क्षेत्रीय सांसद श्री ताराचंद भगोरा पहुंचे।

बांसवाड़ा पहुंचने पर हेलीपेड पर जनजाति क्षेत्रीय विकास, जनअभियोग निराकरण, तकनीकी एवं अभियांत्रिकी शिक्षामंत्री श्री महेन्द्रजीतसिंह मालवीया, जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. राजकुमार शर्मा, संसदीय सचिव श्री नानालाल निनामा, जिला प्रमुख श्रीमती रेशम मालवीया, विधायक श्री अर्जुन बामनिया एवं श्रीमती कांता भील, जिला कलक्टर श्री अशोक भण्डारी, जिला पुलिस अधीक्षक श्रीमती लता मनोज कुमार सहित जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने उनकी अगवानी की।

बांसवाड़ा पहुंचने पर समारोह स्थल पर श्रीमती सोनिया गांधी का प्रदेश के मंत्रिमण्डल के सदस्यों, उच्चाधिकारियों और स्थानीय जनप्रतिनिधियों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सूत की माला व पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया।
----

Best viewed in 1024X768 screen settings with IE8 or Higher