• http://ashokgehlot.in/blog
  • http://www.facebook.com/AshokGehlot.Rajasthan
  • http://www.youtube.com/user/GehlotAshok

हर व्यक्ति ले अंगदान का संकल्प समाज में भ्रांतियां दूर कर बनाएं जन आन्दोलन -मुख्यमंत्री

दिनांक
27/11/2020
स्थान
जयपुर


जयपुर, 27 नवम्बर। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि अंगदान एक पुनीत कार्य है। एक व्यक्ति के अंगदान से कई लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अंगदान को लेकर समाज में भ्रांतियों को दूर कर इसे जन आंदोलन का रूप देने की आवश्यकता है और हर व्यक्ति को अंगदान का संकल्प लेना चाहिए।

श्री गहलोत शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रंंेस के माध्यम से अंगदान दिवस के अवसर मोहन फाउण्डेशन जयपुर सिटीजन फोरम (एमएफजेसीएफ) के तत्वावधान में जयपुर में बनाए गए अंगदाता स्मारक के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत में वर्तमान में अंगदान की दर प्रति दस लाख जनसंख्या पर मात्र 0.08 ही है, जबकि स्पेन में यह 35.01, अमरीका में 21.9, ब्रिटेन में 15.5 प्रति मिलियन है। देश में हर साल करीब दो लाख लोगों को किडनी, इतने ही लोगों को लिवर तथा 50 हजार लोगों को हार्ट ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। अंगदान के प्रति जागरूकता में कमी के कारण बहुत कम लोगों में ही अंग प्रत्यारोपित हो पाते हैं। उन्होंने कहा कि हमें अंगदान तथा अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में और अधिक समर्पित भाव से कार्य करने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑर्गन ट्रांसप्लांट की दिशा में हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में पिछले साल मानव अंग एवं उतक प्रत्यारोपण केन्द्र तथा कार्डियोथोरासिक हृदय प्रत्यारोपण ऑपरेशन थिएटर एवं गहन चिकित्सा इकाई का उदघाटन किया गया था। यह केन्द्र लोगों को अंगदान के लिए प्रेरित करने का भी काम कर रहा है।

श्री गहलोत ने इस अवसर पर स्मारक से संबंधित पोस्टर का विमोचन किया। उन्होंने प्रदेश में अंगदान के प्रति सामाजिक जागरूकता लाने के लिए जयपुर सिटीजन फोरम के चैयरमेन श्री राजीव अरोडा तथा एमएफजेसीएफ की कन्वीनर श्रीमती भावना जगवानी की सराहना करते हुए कहा कि यह स्मारक आमजन में अंगदान के प्रति प्रेरणा जगाने तथा पीड़ित मानवता की सेवा का वातावरण तैयार करने में सहायक सिद्ध होगा।
समारोह की अध्यक्षता करते हुए नगरीय विकास मंत्री श्री शांति धारीवाल ने कहा कि सामाजिक मान्यताओं के कारण लोगों को अंगदान के लिए प्रोत्साहित करना आसान कार्य नहीं है, लेकिन ऎसी संस्थाओं के प्रयासों से इस नेक काम को आगे बढ़ाने में मदद मिल रही है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अंगदान तथा अंग प्रत्यारोपण चिकित्सा के क्षेत्र में एक ऎसी क्रांति है जिससे लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है। एक ब्रेन डेड घोषित व्यक्ति के शरीर से कॉर्निया, किडनी, लिवर, दिल, पैंक्रियाज, फेफडे, हार्ट वाल्व का प्रत्यारोपण कर लोगों को नया जीवन दिया जा सकता है।

जयपुर ग्रेटर मेयर श्रीमती सौम्या गुर्जर ने कहा कि अंगदान को उत्सव के रूप में मनाया जाना चाहिए।

जयपुर सिटीजन फोरम के अध्यक्ष श्री राजीव अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री की प्रेरणा से जयपुर में भारत का पहला अंगदान स्मारक बन सका है। उन्होंने कहा कि राजस्थान ऎसा पहला राज्य है जहां ड्राइविंग लाइसेंस पर अंगदाता होने का चिन्ह अंकित करना प्रारंभ किया गया है। यह अपने आप में बड़ी पहल है। उन्होंने कहा कि राजस्थान पूरे उत्तर भारत में अंगदान के क्षेत्र में आगे आने वाला प्रमुख राज्य बन गया है।

डालमिया सीमेंट के प्रबंध निदेशक श्री महेन्द्र सिंघी ने कहा कि यह स्मारक अंगदाताओं के योगदान को अविस्मरणीय बनाए रखेगा। मोहन फाउंडेशन के फाउंडर ट्रस्टी डॉ. सुनील श्रॉफ ने कहा कि असीम पीड़ा के समय भी परमार्थ भाव से किया गया अंगदान सबके लिए प्रेरणादायी है।

एमएफजेसीएफ की कन्वीनर श्रीमती भावना जगवानी ने प्रदेश में अंगदान के लिए संस्था द्वारा किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि हमारा संकल्प है कि प्रदेश अंगदान के क्षेत्र में मिसाल कायम करे। स्मारक की डिजाइन तैयार करने वाले आर्किटेक्ट श्री समीर व्हीटन ने भी संबोधित किया।

Best viewed in 1024X768 screen settings with IE8 or Higher